img14

नई दिल्ली। 
पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में जबर्दस्त हमला किया है। भारतीय वायुसेना के 12 मिराज 2000 लड़ाकू विमानों ने आतंकी ठिकानों पर 1000 किलोग्राम के बम गिराकर जैश-ए-मोहम्मद के अल्फा 3 कंट्रोल रूम समेत कई ठिकानों को ध्वस्त कर दिया है। खबरों के मुताबिक इस एयर स्ट्राइक में 200-300 आतंकियों के मारे गए हैं। सूत्रों के मुताबिक एनएसए अजीत डोभाल ने इस एयर स्ट्राइक के बारे में पीएम नरेंद्र मोदी को जानकारी दी है। इस हमले के बाद भारतीय वायुसेना हाई अलर्ट पर है। सीमा पर सटे स्थानीय लोगों ने भी बताया है कि सोमवार रात से ही सीमा पर लड़ाकू विमानों की आवाजें आ रही थीं।  
रक्षा मंत्री और गृह मंत्री करेंगे पीएम मोदी से मुलाकात 
एनएसए डोभाल द्वारा इस हमले पर पीएम मोदी को जानकारी दी गई है। उधर, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और गृह मंत्री राजनाथ सिंह भी कुछ देर में पीएम मोदी से मुलाकात कर सकते हैं। 
सूत्रों के अनुसार 1971 भारत-पाक युद्ध के बाद पहली बार भारतीय वायुसेना ने सीमा पार जाकर हमला किया है। सूत्रों के मुताबिक भारतीय कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त किया गया है। मुजफ्फराबाद के रास्ते भारतीय लड़ाकू विमानों ने जैश के अल्फा 3 कंट्रोल रूम को पूरी तरह नेस्तनाबूद कर दिया। सूत्रों के मुताबिक इस हमले में आतंकियों को काफी नुकसान की खबरें हैं। बालाकोट और चकोटी में आतंकी संगठन जैश के ठिकानों को भी ध्वस्त करने की खबरें हैं। 
सूत्रों के अनुसार भारत ने पूरी तैयारी के साथ यह हमला किया है। लड़ाकू विमानों के हवा में ही फ्यूल भरने की भी व्यवस्था की गई थी। पीएम नरेंद्र मोदी ने भारतीय सुरक्षाबलों को कार्रवाई करने की पूरी छूट दे दी थी। सुरक्षाबलों ने पूरी तरह सोच समझकर यह ऐक्शन लिया है। बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद आतंकी संगठन जैश ने इसकी जिम्मेदारी ली थी। 
करगिल के समय मिराज ने छुड़ाए थे पाकिस्तान के छक्के 
सूत्रों ने बताया कि करगिल युद्ध के समय मिराज 2000 विमानों ने पाकिस्तानी घुसपैठियों के छक्के छुड़ा दिया था। भारतीय वायुसेना ने पूरी तैयारी के साथ इसबार हमला किया। 
पाकिस्तान ने भारतीय वायुसेना PoK में आने की बात खुद ही मानी है। मंगलवार को पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्वीट कर भारत पर सीमा उल्लंघन का आरोप लगाया है।