img14

लखनऊ। राज्य एवं शहरी विकास प्रधिकरण(सूडा)के निदेशक और आईएएस अधिकारी उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता सिंह की एक सितंबर को हुई संदिग्ध मौत के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। मृतक अनिता सिंह के माता-पिता के साथ ही उनके चचेरे भाई ने उमेश सिंह पर हत्या का आरोप लगाया है। इसके साथ ही इन लोगों ने उमेश पर कई बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं। आईएएसअफसर तथा निदेशक सूडा उमेश सिंह के खिलाफ पत्नी की हत्या का मामला दर्ज किया गया है। उनकी पत्नी अनीता सिंह के चचेरे भाई की तहरीर पर चिनहट कोतवाली में उमेश सिंह के खिलाफ पत्नी की हत्या का मामला दर्ज किया गया है। अनिता के चचेरे भाई राजीव सिंह ने मुकदमा दर्ज कराया है। उमेश प्रताप सिंह के साले राजीव सिंह ने अपनी बहन के साथ मारपीट करने के साथ ही आरोपी के कई महिलाओं से संबंध होने के आरोप लगाए हैं। राजीव ने कहा है कि इस घटना के दो घंटा बार पुलिस को इसकी सूचना देना ही मामले को काफी संदिग्ध बना रहा है। निदेशक सूडा उमेश प्रताप सिंह ने भरे मन से कहा कि आरोप लगाने वाले पिछले 22 वर्षों से मेरे घर या किसी सुख दुःख में शरीक होने नहीं आए।मेरे परिवार से कोई संबंध नहीं है। मुझे बदनाम किया जा रहा है। मैं अपनी पत्नी की तेरहवीं संस्कार की तैयारी कर रहा हूं।ऐसे समय में इस तरह के आरोप लगाकर मेरे परिवार को बदनाम किया जा रहा है। सूडा निदेशक की पत्नी मृत पायी गईं थीं लखनऊ के चिनहट कोतवाली क्षेत्र में विकल्पखंड, गोमतीनगर मे सूडा निदेशक उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता (42) की रविवार एक सितंबर को घर में संदिग्ध हालत में गोली लगने से मौत हो गई। गोली उनके सीने से आर-पार हो गई थी। घरवाले मौत को आत्महत्या बता रहे है। उस वक्त घर में उमेश प्रताप सिंह, बेटा आशुतोष सिंह, नौकर तुलसीराम और विकास नीचे के फ्लोर पर थे। आशुतोष का एक दोस्त भी घर पर मौजूद था। आइएएस उमेश प्रताप सिंह मूलरूप से प्रतापगढ़ स्थित बहुचरा गांव के निवासी हैं। लखनऊ में पत्नी, बेटे और बेटी उपासना के साथ रहते हैं। उमेश कुमार सिंह पीसीएस एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष भी रह चुके हैं। अभी सालभर पहले ही उन्हें आइएएस कैडर मिला था।