यू. पी राज्य

अब आज़म पर बकरी चोरी का केस

रामपुर। सपा सांसद आज़म खाँ की मुश्किलें कम होने का नाम ही नही ले रही। अब तक जो आरोप लगते रहे वो अपनी जगह दुरुस्त हो सकते है पर अब जो ताज़ा आरोप लगा वो बकरी चोरी का है जो तीन साल पुराना मामला है। मिली जानकारी के अनुसार आजम खां के खिलाफ गुरुवार को पुलिस ने एक और मुकदमा दर्ज किया है,इस बार शिकायतकर्ता के घर में बंधी बकरी, भैंस और बछड़ा खुलवाने का मुकदमा दर्ज किया गया है। बताया जा रहा है कि साल 2016 की एक घटना में यतीमखाना सरायगेट की रहने वाली नसीमा खातून ने आजम खान के खिलाफ शिकायत करते हुए आरोप लगाया कि तीन साल पहले आजम खान के कहने पर कुछ लोगों ने उनके घर में घुस कर तोड़-फोड़ की थी और उपद्रव मचाया था, साथ ही उनके पशुओं को भी जबरन खोल कर ले गए थे।
Read More

आगरा में स्टाम्प पेपर पर छाप रहे थे 100-100 के जाली नोट, सरगना सहित पांच गिरफ्तार

आगरा। आगरा में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने जाली नोट छापने के गोरखधंधे का भंडाफोड़ किया है। एसटीएफ ने मामले में पांच युवक को गिरफ्तार किया है। इनके पास भारी मात्रा में जाली नोट समेत कई उपकरण बरामद मिले हैं। जाली नोट छापने वाले पांच युवक आगरा के रहने वाले हैं। एसटीएफ ने शुक्रवार को सदर थाना क्षेत्र के शहीद नगर फेज दो में छापा मारकर सरगना सहित इन युवकों को पकड़ा है। ये शातिर स्टाम्प पेपर पर 100 के जाली नोट छापते थे। मौके से 100 के जाली नोटों की तीन गड्डी, मोबाइल, स्टाम्प पेपर, स्केनर बरामद हुए हैं। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वो डेढ़ साल से ये धंधा कर रहे थे। अब तक लाखों रुपये खपा चुके हैं। सरगना का नाम ओमकार झा निवासी राजपुर चुंगी सदर है। अन्य आरोपियों में अवधेश सविता निवासी शमसाबाद, सुनील सिसौदिया निवासी धिमिश्री शमसाबाद, शिवम तोमर निवासी कहरई ताजगंज और लाखन निवासी मियांपुर फतेहाबाद है।
Read More

अब सहारनपुर राष्ट्रवाद की राह पर, यहां अब दंगे नहीं होते: योगी

सहारनपुर। यहां पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त कर एक भारत, श्रेष्ठ भारत का निर्माण कर राष्ट्र का नाम ऊंचा किया है। मुस्लिम महिलाओं को सम्मान देने के लिए तीन तलाक पर कानू बनाकर उन्हें सम्मान से जीने का रास्ता दिखाया। साथ ही मकान, शौचालय देकर गरीबों का सम्मान बढ़ाने का काम सरकार ने किया है। सीएम योगी ने कहा कि, सहारानपुर का व्यक्ति राष्ट्रवाद के पथ पर चलकर क्षेत्र में उद्योग क्षेत्र की प्रगति कर रहा है, जिससे सहारनपुर अब राष्ट्रवाद की राह पर है। इस जनपद का नाम देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी गूंज रहा है। यहां जल्द विश्वविद्यालय का निर्माण किया जाएगा। दिल्ली से सहारनपुर की दूरी कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इससे पहले सीएम योगी ने 124 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण किया, जबकि 42 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास किया। सपा सरकार में यहां होता था दंगा योगी ने कहा कि, हमसे पहले सपा सरकार में यहां दंगा होता था। लेकिन अब प्रदेश कोई दूसरा कैराना नहीं बनेगा। कैराना में पीएसी की बटालियन स्थापित होने जा रही है। अब उत्तर प्रदेश में अपराधियों में सरकार का खौफ है। सहारनपुर की लकड़ी के कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए नक्काशी बाजार को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने का काम कर रहे हैं। प्रदेश सरकार बिना भेदभाव के विकास कार्य कर रही है। जल्द चालू होगी चीनी मिल योगी ने कहा कि, नानोता चीनी मिल की डिस्टलरी चलाई जाएगी। बिडवी चीनी मिल को भी चलाने की योजना। गन्ना मिल की लड़ाई सरकार सुप्रीम कोर्ट में लड़ रही है। समाजवादी पार्टी के कार्यकाल में पांच वर्ष से गन्ना का भुगतान बकाया था। हमने 73 हजार करोड़ का बकाया भुगतान किया। सरकार इस बार भी किसानों को उनकी फसलों का भुगतान जल्दी करने जा रही है। किसानों, व्यापारियों, नौजवानों की समस्याओं का समाधान होगा। उपचुनाव की तैयारी तेज विधायक प्रदीप चौधरी के सांसद बन जाने के बाद गंगोह विधानसभा सीट रिक्त हो गई थी। इस सीट पर अब उप चुनाव होना है। उप चुनाव को लेकर जहां सभी राजनीतिक दलों ने अपनी अपनी ओर से तैयारी प्रारंभ कर दी है, वहीं शुक्रवार को भाजपा की ओर से चुनावी जनसभा का आयोजन भी गंगोह कस्बे में किया गया।
Read More

सूडा निदेशक के खिलाफ पत्नी हत्या का मामला दर्ज

लखनऊ। राज्य एवं शहरी विकास प्रधिकरण(सूडा)के निदेशक और आईएएस अधिकारी उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता सिंह की एक सितंबर को हुई संदिग्ध मौत के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। मृतक अनिता सिंह के माता-पिता के साथ ही उनके चचेरे भाई ने उमेश सिंह पर हत्या का आरोप लगाया है। इसके साथ ही इन लोगों ने उमेश पर कई बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं। आईएएसअफसर तथा निदेशक सूडा उमेश सिंह के खिलाफ पत्नी की हत्या का मामला दर्ज किया गया है। उनकी पत्नी अनीता सिंह के चचेरे भाई की तहरीर पर चिनहट कोतवाली में उमेश सिंह के खिलाफ पत्नी की हत्या का मामला दर्ज किया गया है। अनिता के चचेरे भाई राजीव सिंह ने मुकदमा दर्ज कराया है। उमेश प्रताप सिंह के साले राजीव सिंह ने अपनी बहन के साथ मारपीट करने के साथ ही आरोपी के कई महिलाओं से संबंध होने के आरोप लगाए हैं। राजीव ने कहा है कि इस घटना के दो घंटा बार पुलिस को इसकी सूचना देना ही मामले को काफी संदिग्ध बना रहा है। निदेशक सूडा उमेश प्रताप सिंह ने भरे मन से कहा कि आरोप लगाने वाले पिछले 22 वर्षों से मेरे घर या किसी सुख दुःख में शरीक होने नहीं आए।मेरे परिवार से कोई संबंध नहीं है। मुझे बदनाम किया जा रहा है। मैं अपनी पत्नी की तेरहवीं संस्कार की तैयारी कर रहा हूं।ऐसे समय में इस तरह के आरोप लगाकर मेरे परिवार को बदनाम किया जा रहा है। सूडा निदेशक की पत्नी मृत पायी गईं थीं लखनऊ के चिनहट कोतवाली क्षेत्र में विकल्पखंड, गोमतीनगर मे सूडा निदेशक उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता (42) की रविवार एक सितंबर को घर में संदिग्ध हालत में गोली लगने से मौत हो गई। गोली उनके सीने से आर-पार हो गई थी। घरवाले मौत को आत्महत्या बता रहे है। उस वक्त घर में उमेश प्रताप सिंह, बेटा आशुतोष सिंह, नौकर तुलसीराम और विकास नीचे के फ्लोर पर थे। आशुतोष का एक दोस्त भी घर पर मौजूद था। आइएएस उमेश प्रताप सिंह मूलरूप से प्रतापगढ़ स्थित बहुचरा गांव के निवासी हैं। लखनऊ में पत्नी, बेटे और बेटी उपासना के साथ रहते हैं। उमेश कुमार सिंह पीसीएस एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष भी रह चुके हैं। अभी सालभर पहले ही उन्हें आइएएस कैडर मिला था।
Read More

एएमयू में गूंजे भारत विरोधी स्वर; कश्मीरी छात्रों ने प्रदर्शन कर कहा- आजादी लेकर रहेंगे

अलीगढ़। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 व धारा 35 ए हटाए जाने के विरोध में गुरुवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कश्मीरी छात्रों ने भारत विरोधी मार्च निकालकर प्रदर्शन किया। कश्मीरियों ने कहा कि, केंद्र सरकार ने जिस तरह से कार्य किया, वह गलत है। वहां के हालात बहुत खराब हैं, इस समय हमारी अपनों से बात नहीं हो पा रही है। डेमोक्रेसी में हर किसी को आजादी के साथ रहने का हक है, लेकिन इस सरकार ने आजादी पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी है। हम चाहते हैं कि इंटरनेशनल लेवल पर यह मुद्दा उठना चाहिए, जिससे यह बात सामने आए कि, अनुच्छेद 370 व 35 ए क्यों हटाया गया? वहीं, एएमयू के प्रवक्ता प्रोफेसर शाफे किदवई ने बताया कि कश्मीरी छात्रों ने बिना सूचना के विरोध मार्च निकाला था, जो नियम के खिलाफ है। नोटिस देकर आगे की कार्रवाई होगी। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने छात्रों को प्रदर्शन को बताया नियमों के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में 1100 छात्र-छात्राएं कश्मीरी हैं। लेकिन वर्तमान में यहां 500 के आसपास ही हैं। बाकी घर से नहीं लौटे। कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के एक माह पूरे पर गुरुवार को अचानक कश्मीरी छात्र हाथों में पोस्टर लेकर सड़क पर उतर आए। यहां भड़काऊ तकरीर की गई। छात्रों ने कहा कि, कश्मीरी में लोकतंत्र व धर्मनिरपेक्षता का कत्ल किया जा रहा है। आजादी का जो ख्वाब देखा है, इंशाअल्लाह उसे हम पूरा करेंगे, तब जाकर दम लेंगे। छात्रों ने कहा कि, सरकार द्वारा वहां का कम्युनिकेशन पूरी तरह से ब्लॉक कर दिया गया है। अगर वहां के हालात सामान्य होते तो सरकार कम्युनिकेशन ब्लॉक नहीं करती। हमको नहीं पता है कि हमारे परिवार के लोग किस हालात में हैं? कैसे रह रहे हैं? हमारी अगर बात होती है तो पीसीओ के माध्यम से बात होती है। बाकी अन्य सेवाएं बंद है। कश्मीर का मसला वैसा ही है, जैसा 70 साल पहले था। जवाहर लाल नेहरू ने वादा किया था कि कश्मीरी अपना फैसला स्वयं करेंगे, ये पूरा किया जाए। कश्मीरी छात्रों द्वारा निकाले गए विरोध मार्च पर बरौली से भाजपा विधायक ठाकुर दलवीर सिंह ने सवाल उठाए हैं। दलबीर सिंह ने कहा है कि कश्मीरी छात्रों ने विश्वविद्यालय के नियमों का तो उल्लंघन किया ही कोर्ट के आदेश का भी उल्लंघन किया है। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद पूरे देश के लोगों को कश्मीरियों से हमदर्दी है। उनकी पूरा देश सहायता और सहयोग देने का कार्य कर रहा है। इसके बावजूद इनके द्वारा जो कृत्य किया गया है वह निंदनीय है और कोर्ट की अवमानना है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को जिन छात्रों द्वारा धारा 370 को लेकर जो प्रोटेस्ट निकाला गया है। उन छात्रों के नाम खोज कर थाना सिविल लाइन पुलिस को देने चाहिए और उनके खिलाफ संज्ञेय धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई होनी चाहिए। विश्वविद्यालय को छात्रों को भविष्य में ऐसा न करने के लिए हिदायत देनी चाहिए। विधानसभा चलने के दौरान मेरे द्वारा कई बार विश्वविद्यालय से संबंधित प्रश्न उठाए गए हैं। अगर जरूरत पड़ी तो आगे में इस प्रश्न को भी उठाने के लिए तैयार रहूंगा। इस बात की शिकायत मुख्यमंत्री जी से करूंगा।
Read More

उन्नाव केस / सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए सीबीआई को दो हफ्ते का समय और दिया, पीड़िता को आया होश

लखनऊ। शुक्रवार कोसुप्रीम कोर्ट ने उन्नावदुष्कर्म पीड़िता के साथ हुए हादसे की चार्जशीट दाखिल करने के लिएसीबीआई को दो सप्ताह का समय और दिया है। अदालत ने एम्स में पीड़िता के लिए अस्थाई कोर्ट बनाने की बात भीकही। इससे पहले भी19 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट नेसीबीआई को जांच पूरा करने के लिए दो हफ्ते का समय दिया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरुवार को पीड़िता नेसीबीआई कोबयान दिया। इसमें उसने कहा,'कुलदीप सेंगर ने ही एक्सीडेंट में मुझे मारने की साजिश रखीथी। इस पर कोई शक नहीं है।' पीड़िता ने यह भी बताया कि विधायकसेंगर का गुर्गा उन्नाव कोर्ट परिसर में अक्सर जान से मारने की धमकी देता था। उसकी मां भी दुष्कर्म मामले में आरोपी है।28 जुलाई को पीड़िता की कार हादसे का शिकार हो गई थी, जिसमें उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई थी। जबकि पीड़िता और उसका वकील गंभीर तौर पर घायल हो गया था। 45 दिनों में ट्रॉयल पूरा करने की सीमा को बढ़ासकती है कोर्ट: सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि इस मामले की सुनवाई कर रहीनिचली अदालत यदि 45 दिनों में ट्रॉयल पूरा करने की सीमा को बढ़ाना चाहतीहैं तो वेकोर्ट को बता सकते हैं। इससे पहले एक अगस्त को सुप्रीमकोर्ट ने पीड़िता के साथ हुए हादसे की जांच 14 दिन में पूरी करने का सीबीआई कोआदेश दिया था। सीबीआई की 20 सदस्यीय टीम इस मामले कीजांच कर रही है। दुष्कर्म मामले कीजांच लगभगपूरी सूत्रों ने बताया किदुष्कर्म मामले की जांच सीबीआई नेपूरी कर ली है। इसकी रिपोर्ट जल्द ही सुप्रीम कोर्ट को सौंपी जाएगी। आरोपी विधायक पर तय हो चुके हैं आरोप दुष्कर्म पीड़िता के पिता की पुलिस हिरासत में मौतमामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट विधायक कुलदीप, उसके भाई अतुल, यूपी पुलिस के तीन कर्मियों और पांच अन्य लोगों पर आरोप तय कर चुकी है। 9 अप्रैल 2018 को उन्नाव में पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत हो गई थी। वहीं, 9 अगस्त को कोर्ट ने कहा था कि विधायक सेंगर के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं, जिससे तय होता है कि उन्होंने दुष्कर्म किया था। कोर्ट ने विधायक सेंगर पर आईपीसी की धारा 120 बी, 363, 366, 109, 376 (आई) और पॉक्सो एक्ट के तहत आरोप तय किए। वर्तमान में विधायक तिहाड़ जेल में बंद है।
Read More

हेलमेट के लिए कार चालक का भी काटा चालान

बरेली। यहां ट्रैफिक पुलिस का एक अनोखा कारनामा सामने आया है। पुलिस ने बिना हेलमेट कार चलाने के आरोप में व्यापारी का चालान काट दिया है। कार मालिक को जब इस बात की जानकारी हुई तो उसके होश उड़ गए। वह सोच में पड़ गया कि, क्या अब हेलमेट चलाकर कार चलानी पड़ेगी। गुरुवार को व्यापारी ने एसपी ट्रैफिक से इसकी शिकायत की है। दो दिन पहले हुई जानकारी बरेली के रहने वाले अनीस नरुला स्पेयर्स पार्ट्स कारोबारी है। उनकी चौपुला पर दुकान है। उनके पास (यूपी25सीए- 6668) कार है। दो दिन पूर्व वह इंटरनेट पर अपनी गाड़ी का कागज चेक कर रहे थे। तभी उन्हें पता चला कि, उनकी गाड़ी का चालान हो गया है। देखा तो पता चला कि, हेलमेट न होने पर गाड़ी का चालान 26 जुलाई को किया गया है। पुलिस ने 500 रूपए की पेनाल्टी लगाई है। दो पहिया का चालान, नंबर कार का चालान में यह दर्शाया गया कि दो पहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नहीं पहना गया, यह यातायात नियमों का उल्लंघन है। कार के नंबर का भी उल्लेख था। गुरुवार को व्यापारी अनीश नरुला एसएसपी ट्रैफिक सुभाष चंद्र गंगवार के पास पहुंचे। उन्होंने अपनी पीड़ा बताई। एसएसपी ने व्यापारी से लिखित में शिकायती पत्र लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है। तकनीकी वजह से आई दिक्कत एसएसपी ने बताया कि, यह चालान सिविल पुलिस के एक सब इंस्पेक्टर के द्वारा किया गया है। पोर्टल पर सीट बेल्ट व हेलमेट का कॉलम ऊपर नीचे है। स्क्रीन टच करने पर कई बार गड़बड़ी हो जाती है। संबंधित सब इंस्पेक्टर से स्पष्टीकरण तलब किया गया है। व्यापारी के चालान को जल्द सही करा दिया जाएगा। तकनीकी वजह से यह समस्या आई है।
Read More

वाराणसी / बिजली विभाग का करंट: पब्लिक स्कूल को भेजा 6 अरब 18 करोड़ 51 लाख से अधिक रुपए का बिल

वाराणसी। उत्तर प्रदेश में बिजली महंगी हो चुकी है। लेकिन इतनी भी नहीं कि किसी इमारत का बिल 6 अरब रुपए से अधिक आ जाए। यहांविनायका इलाके में स्थितओ ग्रेव पब्लिक स्कूल का अगस्त माह का बिजली का बिल 6 अरब 18 करोड़ 51 लाख 50 हजार 163 रुपए आया। बिल देखकरस्कूल प्रबंधन के हाथ-पांव फूल गए। स्कूल प्रशासन ने इसकी शिकायत बिजली विभाग से की। अधिकारियों नेसॉफ्टवेयर से ही बिल गड़बड़ होने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया। वहीं, बिल का समय से भुगतान नहींकरने पर सात सितंबर को बिजली काटने की बात भीबिल में दर्ज है। एक बार दुरुस्तकराया, दोबारा आया बिल स्कूल के कोआर्डिनेटर योगेंद्र मिश्रा ने बताया कि पिछले दो महीने से ऐसा ही बिल आ रहा है। पहली बार आया तो बिजली विभाग में जाकर बिल सही कराकर साढ़े नौ हजार रुपए जमा किए। लेकिन, अगस्त माह के बिल में फिर छह अरब रुपए से अधिक का बिल आ गया। रीडिंग मशीन में गड़बड़ी संभव भेलूपुर एक्सईएन जीवन प्रकाश ने बताया कि जो मीटर रीडिंग लेने जाते हैं, उनके रीडिंग मशीन में कुछ प्रॉब्लम हो सकती है। दूसरा हमारे ऑफिशियल सिस्टम में बिल अभी चढ़ा नही है। रीडिंग प्राईवेट कंपनी करती है। रीडिंग ब्वॉय को मशीन के साथ बुलायाहै।
Read More

आज़म के रिसोर्ट में बिजली चोरी पकड़ी गई

रामपुर। समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं। एक के बाद एक कई केस दर्ज होने के बीच अब उनके रिजॉर्ट में बिजली चोरी पकड़ी गई है। आजम खान के हमसफर रिजॉर्ट पर गुरुवार को बिजली विभाग ने छापा मारा। इस दौरान रिजॉर्ट में बिजली की चोरी पकड़ी गई। रिजॉर्ट का बिजली कनेक्शन काट दिया है और एफआईआर दर्ज करने की तैयारी चल रही है। बिजली विभाग के जेई ने कार्रवाई की पुष्टि की है। इसके अलावा बताया जा रहा है कि रिजॉर्ट में छापेमारी के दौरान यहां नलकूप विभाग का ट्यूबवेल भी लगा हुआ पाया गया है। इस ट्यूबवेल को किसानों के खेतों की सिंचाई के लिए लगाया गया था। प्रशासन जांच कर रहा है कि इससे किसानों को पानी मिलता भी था या नहीं। बता दें कि आजम खान के खिलाफ बीते दिनों पुलिस-प्रशासन ने ताबड़तोड़ कार्रवाई की है। आजम पर चुनाव के दौरान अभद्र भाषा का प्रयोग करने, जमीन हड़पने, अवैध रूप से संपत्ति हथियाने, किताबें चुराने, हरे पेड़ों को कटवाने जैसे करीब 64 मामलों में मुकदमा दर्ज है। आजम ने रामपुर में अपने खिलाफ दर्ज जमीन हड़पने के 29 मामलों में अग्रिम जमानत के लिए आवेदन किया था। पिछले हफ्ते उनकी जमानत अर्जी खारिज कर दी गई है। योगी सरकार भी आजम खान को पहले ही भूमाफिया घोषित कर चुकी है। गिरफ्तारी की तलवार लटकती देख आजम खान लोकसभा चुनाव जीतने के बाद से अब तक अपने संसदीय क्षेत्र रामपुर नहीं पहुंचे हैं। आजम के बचाव में उतरे मुलायम सिंह यादव हालांकि तमाम मुश्किलों के बीच आजम खान को बुधवार को यूपी के पूर्व सीएम और एसपी संरक्षक मुलायम सिंह यादव का साथ मिला है। उन्होंने बुधवार को लगभग 2 साल बाद मीडिया को संबोधित किया। बीमारी के कारण महीनों बाद मीडिया के सामने आए मुलायम ने कहा कि आजम खान ने बहुत मेहनत के बाद जौहर यूनिवर्सिटी का निर्माण कराया है और उन्हें राजनीतिक षड्यंत्र के तहत निशाना बनाया जा रहा है।
Read More

पाकिस्तान से आए कैंसर मरीज को लखनऊ के डॉक्टर ने दिया जीवनदान, इमरान खान के अस्पताल में नहीं हो सका था इलाज

लखनऊ। पाकिस्तान से लखनऊ रेफर किए गए ओरल कैंसर (मुंह का कैंसर) के एक मरीज को यहां के डॉक्टरों ने जीवनदान दिया है। मरीज मूल रुप से अफगानिस्तान का बताया जाता है जो मुंह के कैंसर से ग्रसित था उसे सबसे पहले इलाज के लिए पड़ोसी देश पाकिस्तान ले जाया गया था, लेकिन वहां के डॉक्टर उसका इलाज नहीं कर सके। पाकिस्तान से उस मरीज को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ रेफर कर दिया। बड़ी बात ये है कि पाकिस्तान में पीएम इमरान खान के द्वारा स्थापित किए गए एक बड़े अस्पताल में उसे इलाज के लिए लाया गया था लेकिन वहां के डॉक्टर भी उसका इलाज कर पाने में सक्षम नहीं हुए। अंत में लखनऊ शहर के ओरल कैंसर स्पेशलिस्ट डॉ. अनुराग यादव ने उस मरीज का इलाज कर उसे जीवनदान दिया। इन्होंने उसके मुंह के कैंसर का ऑपरेशन किया और उसे रोगमुक्त किया। डॉक्टर ने बताया कि ओरल कैंसर के इलाज के लिए उसे पहले पेशावर में इमरान खान के अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन वहां उसका सही से इलाज नहीं हो पाया। इसके बाद उसे भारत लाने की तैयारी की गई। डॉ. यादव ने बताया कि पाकिस्तान में सर्जरी की सुविधा अभी उतनी विकसित और एडवांस नहीं हुई है इसलिए वहां पर सर्जरी करना संभव नहीं था। उन्होंने बताया कि ये केस काफी चुनौतीपूर्ण रहा, क्योंकि मरीज के मुंह का कैंसर इतना बढ़ चुका था कि उसका प्रभाव उसके गर्दन तक पहुंच गया था। उन्होंने बताया कि इतना ही नहीं उनके पास पैसों की भी समस्या थी। डॉक्टर ने बताया कि हमने इस चैलेंजिंग सर्जरी को सफलतापूर्वक पूरा किया और उसे जीभ पर प्लास्टिक सर्जरी का काम मुफ्त में किया। हम नहीं चाहते थे कि महज पैसों की कमी के चलते कोई मरीज जीवन भर अपनी आवाज खो दे। मरीज ने बताया कि उसने सबसे पहले डॉ. यादव का नाम अफगानिस्तान में एक डेंटिस्ट के मुंह से सुना था, इसके बाद उसने इनके बारे में अन्य जानकारियां इकट्ठी की और इसके बाद मैं लखनऊ आने का प्लान बना लिया। डॉ. यादव ने बताया कि मरीज को रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी की भी आवश्यकता है, एक बार वह अफगानिस्तान से वापस आ जाएगा तो उसे ये भी दिया जाएगा। डॉ. यादव ने बताया कि यह एक तरह का उदाहरण है कि भारत एक मेडिकल टूरिज्म का भी नेतृत्व कर सकता है। देश में कई सारे ऐसे अस्पताल व डॉक्टर्स हैं जो एडवांस सर्जरी करते हैं और उनके पास दूसरे-दूसरे देशों से भी मरीज अपना इलाज करवाने के लिए आते हैं।
Read More