यू. पी राज्य

भीम आर्मी की पार्टी बनाने की घोषणा से बसपा में हलचल, कई बड़े नेता बदल सकते है पाला

लखनऊ भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर ने अपनी नई पार्टी बनाने की घोषणा कर दी है. चंद्रशेखर की नई पार्टी का औपचारिक ऐलान होली के बाद 15 मार्च को होगा. चंद्रशेखर की नई पार्टी के ऐलान के साथ ही बहुजन समाज पार्टी में हलचल बढ़ गई है. बताया जा रहा है कि चंद्रशेखर की नई पार्टी में बसपा के कई पूर्व एमएलसी और लोकसभा प्रत्याशी शामिल हो सकते हैं. नई पार्टी के गठन के सिलसिले में रविवार को चंद्रशेखर लखनऊ पहुंचे थे. डालीबाग के वीआईपी गेस्ट हाउस में चंद्रशेखर से कई लोगों ने मुलाकात की. इसमें बहुजन समाज पार्टी के कई पूर्व नेता शामिल थे. सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान कई पूर्व एमएलसी और लोकसभा के प्रत्याशी रहे नेताओं ने चंद्रशेखर से मुलाकात की. इतना ही नहीं भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर ने कई नेताओं को पार्टी की सदस्यता भी दिलाई. बसपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रामलखन चौरसिया, पूर्व बीएसपी नेता इजहारुल हक और अशोक चौधरी ने भीम आर्मी की सदस्यता ग्रहण की. 'राजनीति महत्वाकांक्षा नहीं बल्कि मजबूरी' भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर का कहना है कि राजनीति उनकी महत्वाकांक्षा नहीं, बल्कि मजबूरी है. उन्होंने बताया कि पार्टी अपने मौजूदा स्वरूप में संगठन के समानांतर काम करती रहेगी. भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने कहा कि वह दिसंबर में एक राजनीतिक दल के गठन की घोषणा करना चाहते थे, लेकिन CAA लागू होने के कारण यह काम रुक गया. उन्होंने कहा कि सीएए के खिलाफ लड़ना चुनाव लड़ने से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गया था. भीम आर्मी चीफ ने बटोरी सुर्खियां पिछले कुछ महीनों में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने अपने भाषणों और गिरफ्तारियों के लिए मीडिया में काफी सुर्खियां बटोरीं. वह दिल्ली में CAA के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों के दौरान 'पोस्टर-बॉय' बनते दिखे. 37 साल के चंद्रशेखर का कहना है कि उनके पास कुछ बड़े प्लान हैं. तिहाड़ जेल से जमानत पर रिहा होने के लगभग एक हफ्ते बाद चंद्रशेखर को 26 जनवरी को हैदराबाद में हिरासत में लिया गया था. वह वहां सीएए के मुद्दे पर छात्रों को संबोधित करने वाले थे. इसके बाद 29 जनवरी को उन्हें बेंगलुरु के एक कॉलेज में आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेना था लेकिन इसको भी रद्द करना पड़ा
Read More

उर्जामंत्री ने अधिकारीयों की लगाई क्लास, गलत बिजली बिल भेजने वालों पर FIR के आदेश

लखनऊ. उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने शनिवार को लखनऊ में बिजली विभाग के आला-अधिकारियो की एक अहम बैठक की. इस बैठक में लापरवाह बिजली अधिकारियो को एक-एक कर खड़ा करते हुए न सिर्फ उनकी जमकर क्लास लगाई. बल्कि इस दौरान बिजली उपभोक्ताओं को लगातार गलत बिल भेजे जाने से भड़के ऊर्जामंत्री नें तत्काल गलत बिलिंग करने वाली एजेंसियो के खिलाफ एफआईआर कराने के निर्देश जारी कर दिये. दरअसल, उर्जामंत्री श्रीकांत शर्मा बीते शुक्रवार को राजधानी लखनऊ स्थित चिनहट शिवपुरी बिजली उपकेन्द्र का निरीक्षण करने पहुचे थे. वहां मौजूद बिजली उपभोक्ताओं ने जब उर्जामंत्री को बिजली विभाग के अधिकारियो की लापरवाही से बिजली बिल के लिये दर-दर भटकने की बात बताई तो श्रीकांत शर्मा ने विभागीय लापरवाही के लिए उनसे माफ़ी मांगी. साथ ही जल्द इसके जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया था. जिसके बाद शनिवार को श्रीकांत शर्मा ने बिजली विभाग के आला-अधिकारियों के साथ एक अहम बैठक करते हुए सभी उपभोक्ताओं को विभागीय योजनाओं का लाभ पहुंचाने के साथ ही गलत बिलिंग करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए. साथ ही राजधानी लखनऊ के हर एक फीडर को स्मार्ट बनाने के लिए जेसी से एमडी तक की जवाबदेही भी तय किये जाने के निर्देश जारी कर दिए. उर्जा मंत्री ने कही ये बात उर्जामंत्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि 'कई जगहो से सही बिल न मिलने की शिकायत मिली है. हमने आदेश दिया है कि उपभोक्ताओं को गलत बिल भेजने वाली एजेंसियो का चिन्हित किया जाय और ऐसी एजेसिंयो के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कड़ी कार्रवाई कराई जाय. इसके साथ ही सूबे के सभी एसडीओ को निर्देश दिये गये हैं कि उपभोक्ताओं के बिलों की गड़बड़ी को अविलंब सही किया जाय. ताकि उपभोक्ता को कोई असुविधा न हो. उपभोक्ता देवो भव: की तर्ज पर हमारी सरकार काम कर रही है. 1912 हमारा हेल्पलाईन नंबर है. जिस पर उपभोक्ता अपनी शिकायत दर्ज करा सकते है. सभी अधिकारियों को उपभोक्ताओं की समस्याओं का तत्काल समाधान करने के साथ ही साथ उन्हे सरचार्ज माफी योजना का भी लाभ दिलाने का निर्देश दिया गया है.'
Read More

स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन पर सपा ने निकाली सायकिल रैली

लखनऊ. स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन के मौके पर यूपी सरकार और उत्तर प्रदेश की मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी ने आयोजन को लेकर दो-दो हाथ किया. योगी सरकार ने जहां 'राष्ट्रीय युवा उत्सव' के तौर पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में किया. वहीं दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर सपा से जुड़े छात्रों, नौजवानों द्वारा रोजगार के लिए लखनऊ में साइकिल यात्रा का आयोजन किया. काकोरी से निकाली साइकिल रैली दरअसल स्वामी विवेकानंद का जन्म दिवस युवाओं को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है लेकिन सरकार और समाजवादी पार्टी के आमने-सामने आने से राजधानी लखनऊ में अलग ही माहौल नजर आया. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने लखनऊ की सड़कों पर ना सिर्फ अपना दम दिखाया बल्कि 30 किलोमीटर से ज़्यादा लंबी साइकिल यात्रा भी की. जगह-जगह सपा कार्यकर्ताओं ने काकोरी ने निकली साइकिल यात्रा में टोलियों के माध्यम से शिरकत की. जनेश्वर मिश्र पार्क में सपाइयों का जत्था हज़ारों में तब्दील हो गया. इस मौके पर समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी कहा कि भाजपा शासन में शिक्षा मंहगी हुई हो गयी है. हर मुद्दे पर योगी सरकार फेल चौधरी ने कहा कि सरकार लगातार अलोकतांत्रिक कदम उठा रही है. आम जनता की कहीं सुनवाई नहीं है. उन्होंने कहा कि बेरोजगारी अपने चरम पर है. वहीं कानून व्यवस्था के मुद्दे पर भी सरकार फेल है. दमनकारी सरकार की नींद को खोलने के लिए हमने साइकिल यात्रा का प्रण राष्ट्रीय अध्यक्ष की प्रेरणा स्रोत से लिया है.
Read More

मऊ में सपा नेता की गोली मारकर नृशंस हत्या

उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के मुहम्मदाबाद गोहना कोतवाली के कोपागंज ब्लॉक क्षेत्र के बरजला शेखवलिया गांव निवासी पूर्व प्रधान बिजली यादव की रविवार सुबह बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। सुबह जब एसपी नेता बिजली यादव घर से टहलने के लिए निकले थे, तभी गांव के बाहर बदमाशों ने गोली मारकर इस हत्याकांड को अंजाम दिया। रविवार की सुबह यह घटना उस समय हुई जब एसपी नेता व पूर्व प्रधान बिजली यादव अपने गांव के पास रोड पर टहल रहे थे। उसी समय बाइक पर सवार होकर आए बदमाश उनको गोली मारकर फरार हो गए। गोली लगने से उनकी मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना की सूचना मिलते ही मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंच गई। इसके साथ ही पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने भी घटना का जायजा लिया। इस घटना की सूचना मिलते ही जिले के एसपी नेताओं और कार्यकर्ताओं की भीड़ भी घटनास्थल पर एकत्र हो गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा। इस दौरान एसपी एमएलसी राम जतन राजभर ने कहा कि मृतक बिजली यादव साफ छवि के मिलनसार व्यक्ति थे। उनकी किसी से भी कोई दुश्मनी नही थी। वहीं पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सूचना मिलने के बाद डॉग स्क्वॉड सहित तमाम टीमों को जांच पड़ताल के लिए लगा दिया गया है। मृतक की पत्नी की तहरीर पर केस दर्ज किया जा रहा है। घटना को अंजाम देने वालों को जल्द गिरफ्तार कर सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
Read More

घने कोहरे के कारण कार गिरी नहर में, 6 मरे

नई दिल्ली: ग्रेटर नोएडा में कोहरे के कारण दर्दनाक हादसा हुआ है. तेज रफ्तार कार कोहरे के कारण नहर में गिर गई. इस हादसे में एक ही परिवार के 6 लोगों की मौत हो गई. इस हादसे में अन्य पांच लोग घायल हो गए हैं. उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि हादसे के वक्त कार में एक ही परिवार के 11 लोग सवार थे. वह संभल से दिल्ली जा रहे थे. कार दनकुर इलाके में एक नहर में गिर गई. हादसे में घायल 11 लोगों को अस्पताल ले जाया गया, जहां 6 लोगों को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया जबकि बाकी के पांच लोगों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. शुरुआती जांच में यह बात सामने आई है कि यह हादसा कोहरे की वजह से हुआ है. बता दें पूरा उत्तर भारत इस वक्त कड़ाके की ठंड से ठिठुर रहा है. जम्मू-कश्मीर, हिमाचल, उत्तराखंड से लेकर पूर्वात्तर के राज्यों तक पहाड़ बर्फ की चादर में सफेद हो गए हैं. पहाड़ों पर हो रही बर्फ बारी का असर मैदान और रेगिस्तान में पड़ा है. राजस्थान के चार जिले में तापमान शून्य के नीचे पहुंच चुका है. पंजाब हरियाणा का भी ठंड से बुरा हाल है. सुबह साढ़े पांच बजे राजधानी दिल्ली के सफदरजंद में न्यूनतम तापमान 2.8 डिग्री रिकॉर्ड किया गया है. दिल्ली में आज भी ठंड का रेड अलर्ट है, इसलिए कहीं निकलने से पहले ठंड से बचने के उपाय जरूर कर लें. दिल्ली में कड़ाके की ठंड के साथ घना कोहरा भी छाया हुआ है. कई इलाकों में विजिबिलिटी शून्य हो गई है. कोहरे और ठंड का असर हवाई और रेल यातायात पर भी पड़ रहा है.
Read More

2 जनवरी को हो सकती है बारिश, ठंड और बढ़ेगी

लखनऊ। अगले दो दिनों तक हाड़ कंपाने वाली ठंड का कहर जारी रह सकता है। मौसम विभाग के अनुसार सोमवार और मंगलवार को सुबह-शाम घना कोहरा रह सकता है। नए साल के पहले और दूसरे दिन बादलों की आवाजाही के साथ बारिश की संभावना है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार एक और दो जनवरी को बारिश हो सकती है। देश के उत्तर पश्चिम के ऊपर दबाव का क्षेत्र सक्रिय है। इसका असर अगले 48 घंटों के बाद उत्तर प्रदेश और खासकर लखनऊ में दिखेगा। वहीं, रविवार को भी ठंड का सितम जारी रहा। सुबह पौने 10 बजे तक पारा 9 से 10 डिग्री के बीच रहा। नतीजतन सड़कों पर भी आवाजाही कम रही। देर से निकली धूप ने लोगों को ठंड से थोड़ी राहत दी। दोपहर 12:30 बजे के करीब आसमान में डेरा जमाए कोहरे की धुंध छंटी तो लोगों ने राहत की सांस ली। रविवार को दिन का अधिकतम तापमान सामान्य से नौ डिग्री कम 13.5 दर्ज किया गया। न्यूनतम तापमान 6.9 डिग्री सेल्सियस रहा। यह सामान्य से एक डिग्री कम रहा। अमौसी स्थित मौसम केन्द्र के अनुसार सोमवार को सुबह कोहरा रहेगा। दोपहर तक आमसान साफ हो जाएगा। ठंड से 34 की मौते बुन्देलखंड, कानपुर व आसपास के जिलों में रविवार को भी शीतलहर और गलन की चपेट में आकर 34 लोगों की जान चली गई। बांदा व औरैया में न्यूनतम तापमान दो डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। दिनभर बदली छाने और कोहरे की वजह से कड़ाके की ठंड रही। पूर्वांचल में ठंड 12 की मौत पूर्वांचल में ठंड और कोहरे का असर लगातार बरकरार है। रविवार को जहां ठंड से 12 लोगों की मौत हो गई। वाराणसी, जौनपुर और बलिया, सोनभद्र, चंदौली में 2-2 जबकि मऊ और भदोही में 1-1 मौत ठंड से हुई। पूर्वांचल में सबसे कम सोनभद्र में न्यूनतम तापमान दो डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।
Read More

अब आज़म पर बकरी चोरी का केस

रामपुर। सपा सांसद आज़म खाँ की मुश्किलें कम होने का नाम ही नही ले रही। अब तक जो आरोप लगते रहे वो अपनी जगह दुरुस्त हो सकते है पर अब जो ताज़ा आरोप लगा वो बकरी चोरी का है जो तीन साल पुराना मामला है। मिली जानकारी के अनुसार आजम खां के खिलाफ गुरुवार को पुलिस ने एक और मुकदमा दर्ज किया है,इस बार शिकायतकर्ता के घर में बंधी बकरी, भैंस और बछड़ा खुलवाने का मुकदमा दर्ज किया गया है। बताया जा रहा है कि साल 2016 की एक घटना में यतीमखाना सरायगेट की रहने वाली नसीमा खातून ने आजम खान के खिलाफ शिकायत करते हुए आरोप लगाया कि तीन साल पहले आजम खान के कहने पर कुछ लोगों ने उनके घर में घुस कर तोड़-फोड़ की थी और उपद्रव मचाया था, साथ ही उनके पशुओं को भी जबरन खोल कर ले गए थे।
Read More

आगरा में स्टाम्प पेपर पर छाप रहे थे 100-100 के जाली नोट, सरगना सहित पांच गिरफ्तार

आगरा। आगरा में स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने जाली नोट छापने के गोरखधंधे का भंडाफोड़ किया है। एसटीएफ ने मामले में पांच युवक को गिरफ्तार किया है। इनके पास भारी मात्रा में जाली नोट समेत कई उपकरण बरामद मिले हैं। जाली नोट छापने वाले पांच युवक आगरा के रहने वाले हैं। एसटीएफ ने शुक्रवार को सदर थाना क्षेत्र के शहीद नगर फेज दो में छापा मारकर सरगना सहित इन युवकों को पकड़ा है। ये शातिर स्टाम्प पेपर पर 100 के जाली नोट छापते थे। मौके से 100 के जाली नोटों की तीन गड्डी, मोबाइल, स्टाम्प पेपर, स्केनर बरामद हुए हैं। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वो डेढ़ साल से ये धंधा कर रहे थे। अब तक लाखों रुपये खपा चुके हैं। सरगना का नाम ओमकार झा निवासी राजपुर चुंगी सदर है। अन्य आरोपियों में अवधेश सविता निवासी शमसाबाद, सुनील सिसौदिया निवासी धिमिश्री शमसाबाद, शिवम तोमर निवासी कहरई ताजगंज और लाखन निवासी मियांपुर फतेहाबाद है।
Read More

अब सहारनपुर राष्ट्रवाद की राह पर, यहां अब दंगे नहीं होते: योगी

सहारनपुर। यहां पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त कर एक भारत, श्रेष्ठ भारत का निर्माण कर राष्ट्र का नाम ऊंचा किया है। मुस्लिम महिलाओं को सम्मान देने के लिए तीन तलाक पर कानू बनाकर उन्हें सम्मान से जीने का रास्ता दिखाया। साथ ही मकान, शौचालय देकर गरीबों का सम्मान बढ़ाने का काम सरकार ने किया है। सीएम योगी ने कहा कि, सहारानपुर का व्यक्ति राष्ट्रवाद के पथ पर चलकर क्षेत्र में उद्योग क्षेत्र की प्रगति कर रहा है, जिससे सहारनपुर अब राष्ट्रवाद की राह पर है। इस जनपद का नाम देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी गूंज रहा है। यहां जल्द विश्वविद्यालय का निर्माण किया जाएगा। दिल्ली से सहारनपुर की दूरी कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इससे पहले सीएम योगी ने 124 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का लोकार्पण किया, जबकि 42 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास किया। सपा सरकार में यहां होता था दंगा योगी ने कहा कि, हमसे पहले सपा सरकार में यहां दंगा होता था। लेकिन अब प्रदेश कोई दूसरा कैराना नहीं बनेगा। कैराना में पीएसी की बटालियन स्थापित होने जा रही है। अब उत्तर प्रदेश में अपराधियों में सरकार का खौफ है। सहारनपुर की लकड़ी के कारोबार को आगे बढ़ाने के लिए नक्काशी बाजार को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने का काम कर रहे हैं। प्रदेश सरकार बिना भेदभाव के विकास कार्य कर रही है। जल्द चालू होगी चीनी मिल योगी ने कहा कि, नानोता चीनी मिल की डिस्टलरी चलाई जाएगी। बिडवी चीनी मिल को भी चलाने की योजना। गन्ना मिल की लड़ाई सरकार सुप्रीम कोर्ट में लड़ रही है। समाजवादी पार्टी के कार्यकाल में पांच वर्ष से गन्ना का भुगतान बकाया था। हमने 73 हजार करोड़ का बकाया भुगतान किया। सरकार इस बार भी किसानों को उनकी फसलों का भुगतान जल्दी करने जा रही है। किसानों, व्यापारियों, नौजवानों की समस्याओं का समाधान होगा। उपचुनाव की तैयारी तेज विधायक प्रदीप चौधरी के सांसद बन जाने के बाद गंगोह विधानसभा सीट रिक्त हो गई थी। इस सीट पर अब उप चुनाव होना है। उप चुनाव को लेकर जहां सभी राजनीतिक दलों ने अपनी अपनी ओर से तैयारी प्रारंभ कर दी है, वहीं शुक्रवार को भाजपा की ओर से चुनावी जनसभा का आयोजन भी गंगोह कस्बे में किया गया।
Read More

सूडा निदेशक के खिलाफ पत्नी हत्या का मामला दर्ज

लखनऊ। राज्य एवं शहरी विकास प्रधिकरण(सूडा)के निदेशक और आईएएस अधिकारी उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता सिंह की एक सितंबर को हुई संदिग्ध मौत के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है। मृतक अनिता सिंह के माता-पिता के साथ ही उनके चचेरे भाई ने उमेश सिंह पर हत्या का आरोप लगाया है। इसके साथ ही इन लोगों ने उमेश पर कई बेहद गंभीर आरोप लगाए हैं। आईएएसअफसर तथा निदेशक सूडा उमेश सिंह के खिलाफ पत्नी की हत्या का मामला दर्ज किया गया है। उनकी पत्नी अनीता सिंह के चचेरे भाई की तहरीर पर चिनहट कोतवाली में उमेश सिंह के खिलाफ पत्नी की हत्या का मामला दर्ज किया गया है। अनिता के चचेरे भाई राजीव सिंह ने मुकदमा दर्ज कराया है। उमेश प्रताप सिंह के साले राजीव सिंह ने अपनी बहन के साथ मारपीट करने के साथ ही आरोपी के कई महिलाओं से संबंध होने के आरोप लगाए हैं। राजीव ने कहा है कि इस घटना के दो घंटा बार पुलिस को इसकी सूचना देना ही मामले को काफी संदिग्ध बना रहा है। निदेशक सूडा उमेश प्रताप सिंह ने भरे मन से कहा कि आरोप लगाने वाले पिछले 22 वर्षों से मेरे घर या किसी सुख दुःख में शरीक होने नहीं आए।मेरे परिवार से कोई संबंध नहीं है। मुझे बदनाम किया जा रहा है। मैं अपनी पत्नी की तेरहवीं संस्कार की तैयारी कर रहा हूं।ऐसे समय में इस तरह के आरोप लगाकर मेरे परिवार को बदनाम किया जा रहा है। सूडा निदेशक की पत्नी मृत पायी गईं थीं लखनऊ के चिनहट कोतवाली क्षेत्र में विकल्पखंड, गोमतीनगर मे सूडा निदेशक उमेश प्रताप सिंह की पत्नी अनीता (42) की रविवार एक सितंबर को घर में संदिग्ध हालत में गोली लगने से मौत हो गई। गोली उनके सीने से आर-पार हो गई थी। घरवाले मौत को आत्महत्या बता रहे है। उस वक्त घर में उमेश प्रताप सिंह, बेटा आशुतोष सिंह, नौकर तुलसीराम और विकास नीचे के फ्लोर पर थे। आशुतोष का एक दोस्त भी घर पर मौजूद था। आइएएस उमेश प्रताप सिंह मूलरूप से प्रतापगढ़ स्थित बहुचरा गांव के निवासी हैं। लखनऊ में पत्नी, बेटे और बेटी उपासना के साथ रहते हैं। उमेश कुमार सिंह पीसीएस एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष भी रह चुके हैं। अभी सालभर पहले ही उन्हें आइएएस कैडर मिला था।
Read More